Tuesday, Jun 18 2024 | Time 06:01 Hrs(IST)
 logo img
NEWS11 स्पेशल


मानव तस्करों के झांसे में पति की चली गई जान, न्याय की आस में दर-दर भटक रही दलित महिला

मानव तस्करों के झांसे में पति की चली गई जान, न्याय की आस में दर-दर भटक रही दलित महिला

संजीत यादव/न्यूज11 भारत 


पलामू/डेस्क: पलामू जिले में मजदूरी के लिए मानव तस्करों के झांसे में फंसे एक दलित परिवार का मामला प्रकाश में आया है. हरिहरगंज थाना क्षेत्र के कटैया गांव की उर्मिला देवी के पति बिसुनदेव‌ राम के साथ जो हुआ वह तो वाकई चौंकाने वाली घटना है. इस घटना ने मानव तस्करों और पुलिसिया कार्रवाई की पोल खोल कर रख दी है. 

 

मामला बीते 5 मई का है जब महाराष्ट्र के औरंगाबाद में मजदूरी के लिए उर्मिला के पति बिसुनदेव राम को ठेकेदारी में काम दिलाने बालेंदु राम ट्रेन से ले गया. सीधे सादे और अनपढ़ बिसुनदेव को क्या पता था कि रोजगार के तलाश में महाराष्ट्र की यह यात्रा उसकी अंतिम यात्रा में परिवर्तित होने वाली है. उसे तो अपने गरीबी में रह रहे परिवार को रोटी और कपड़ा देने की खुशी थी कि चार पैसे आएंगे तो पत्नी और बच्चे घर चला पाएंगे. ठेकेदार बालेंदु की चिकनी चुपड़ी बातों में आकर बिसुनदेव खुशी-खुशी आंखों में नये सपने लिए उसके साथ चला गया.

 

7 मई की रात बिसुनदेव के बेटे लवकुश के मोबाइल पर एक फोन आता है जो बताता है कि आपके पिताजी के पास कोई पैसा नहीं है और यह हमारे पास है मनमाड़ स्टेशन पर. उस व्यक्ति ने कहा कि मैं कटिहार का रहने वाला हूं और आपके पिताजी को लेकर दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन तक आ रहा हूं इसलिए 820/- भेज दिजीए ताकि इनका टिकट बनवा लें. इस पर परिवार वालों ने उस अनजान व्यक्ति के बताए एक दूसरे मोबाइल नंबर पर पैसे भेज दिए.

 


 

8 मई को बिसुनदेव के परिजन दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन पहुंच कर इंतजार करते रहे लेकिन कोई नहीं पहुंचा. परिजनों ने उस नंबर पर फोन किया. जिस पर पैसे भेजे और जिससे फोन आया था लेकिन किसी ने फोन नहीं उठाया. शाम को लगभग 6.00 बजे फोन रिसीव किया गया तो कहा गया कि बिसुनदेव का जनरल टिकट था लेकिन वो एसी में बैठे हुए थे और टीटी ने पकड़ लिया है इसलिए 1500/- फाईन देना होगा. इस बात पर परिजनों को संदेह हुआ तो उन्होंने बिसुनदेव से बात कराने को कहा लेकिन तब ठगों ने फोन काट दिया.

 

थक हार कर बिसुनदेव के परिजन उसकी खोज और गुमशुदगी की शिकायत दर्ज करवाने महाराष्ट्र के मनमाड़ रवाना हो गए. जब परिजन भुसावल तक पहुंचे तो पता चला कि बिसुनदेव भूखे-प्यासे किसी तरह बिहार के सासाराम पहुंच गया है. तब परिजनों ने सासाराम में अपने रिश्तेदारों को फोन कर बिसुनदेव‌ को सकुशल बरामद किया.

 

किसी तरह ट्रेन बदल-बदल अलग-अलग स्टेशन होते हुए परिजनों ने सासाराम तक वापसी की तो रास्ते में ही पता चला कि बिसुनदेव की मौत हो गई है. 14 मई को उसका अंतिम संस्कार शव को सासाराम से पलामू लाकर किया गया. बिसुनदेव‌ की मौत न सिर्फ सवालों के घेरे में है बल्कि गरीबी और भूखमरी के कारण मजदूरों के पलायन की एक दुखद दास्तान को भी बयां करती है.

 

ट्विटर पर प्रीतम भाटिया ने की थी अपील

बिसुनदेव‌ के मनमाड़ स्टेशन से लापता होने की जानकारी मिलते ही राज्य के युवा पत्रकार और समाजसेवी प्रीतम भाटिया ने ट्विटर पर फोटो सहित अपील करते हुए रेलवे पुलिस के अलावा मुख्यमंत्री, श्रम मंत्री, महाराष्ट्र और झारखंड पुलिस को टैग कर सूचित किया था. इसके बावजूद इस गंभीर मामले पर किसी भी विभाग या व्यक्ति विशेष ने संज्ञान नहीं लिया.

 

एक ओर जहां प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री मजदूरों को कोरोनाकाल में किसी तरह अपने घर तक पहुंचा रहे थे तो वहीं एक लापता मजदूर के लिए ट्विटर पर फोटो सहित संदेश देने पर संज्ञान तक नहीं लिया जाना दुखद है. अगर इस ट्वीट पर दोनों राज्यों और रेलवे पुलिस ने गंभीरता दिखाई होती तो शायद आज एक दलित और गरीब की जान‌ बच गई होती.

 

मौत के बाद प्राथमिकी के लिए भटकती रही उर्मिला

बदनसीबी और भूखमरी ने बिसुनदेव की जान तो ले ही ली लेकिन उसके परिजनों ने भी काफी कष्ट उठाएं होंगे. झारखंड से महाराष्ट्र तक भटकते एक परिवार को अंततः लाश ही देखने को मिली. इसके बावजूद उर्मिला की बदनसीबी तो देखिए जहां उसके अपने ही गृह जिले में न्याय के लिए वह 17 मई को हरिहरगंज थाना में प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए सुबह से शाम तक बैठी रही. थाना प्रभारी ने मामला दर्ज करने के बजाए पहले तो टाल-मटोल करते रहे फिर दूसरे राज्य का मामला बताकर पल्ला झाड़ लिया.





 

क्या है हाईकोर्ट के अधिवक्ता तरूण सिन्हा की राय? 

रांची से हाईकोर्ट के अधिवक्ता तरुण सिन्हा ने इस मामले में दलित उत्पीड़न के साथ ही ठगी के लिए आईटी एक्ट और मानव तस्करी के लिए विभिन्न धाराओं के अंतर्गत अपराध मामला बनने की बात कही है. उन्होने बताया है कि बिसुनदेव‌ का मामला धारा 370/420/406/304/379 भादवि और 66 आईटी एक्ट के तहत दर्ज होना चाहिए था जो कि संज्ञेय अपराध के साथ ही गैरजमानतीय भी है. उन्होने कहा कि एक दलित महिला को प्राथमिकी के लिए घंटों थाना में बैठाकर इंकार कर देने पर संबंधित पुलिस पदाधिकारी पर भी एसटी एससी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया जा सकता है.

 

एक ओर जहां पुलिस इस मामले में घटनास्थल राज्य से बाहर होने का हवाला देकर पल्ला झाड़ रही है तो वहीं तरूण सिन्हा इस मामले में बिसुनदेव‌ को घर से ले जाने और फिर टिकट के नाम पर पैसे का ट्रांसफर ग्राम कटैया से होने पर पीओ हरिहरगंज थाना क्षेत्र ही बता रहे हैं.
अधिक खबरें
पूरी के जगन्नाथपुर मंदिर के तर्ज पर रांची में भी निकाला जाता है रथ यात्रा, जानिए क्या है इसका महत्व
जून 17, 2024 | 17 Jun 2024 | 2:53 AM

पूरी के जगन्नाथपुर मंदिर के तर्ज पर रांची के धुर्वा स्थित जगन्नाथपुर मंदिर में भी रथ यात्रा का आयोजन होगा. इसको लेकर तैयारी की जारी है. बता दें कि रथ यात्रा के दौरान 7 जुलाई को भगवान जगन्नाथ अपनी बहन सुभद्रा और बड़े भाई बलभद्र के साथ मौसीबाड़ी जाएंगे. इस रथ का निर्माण महावीर लोहरा अपने परिवार के साथ करते हैं. महावीर लोहरा के पूर्वज पीढ़ी दर पीढ़ी यह काम करते आ रहे हैं. रथ यात्रा के लिए भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और देवी सुभद्रा के लिए तीन अलग-अलग रथों का निर्माण होता है. यात्रा में सबसे आगे भगवान बलभद्र, बीच में बहन सुभद्रा और सबसे पीछे भगवान जगन्नाथ का रथ निकलता है.

कौन हैं देश विदेश तक में प्रख्यात नीम करोली बाबा, जाने उनका जीवन परिचय
जून 15, 2024 | 15 Jun 2024 | 4:41 AM

चारों ओर पहाड़ों से घिरी वादियों के मनमोहक दृश्य को देखकर सभी लोग रोमांच से भर जाते हैं. इस रोमांच की ऊर्जा का कारण उत्तराखंड के नैनीताल स्थित कैंची धाम मंदिर है. इस मंदिर का अपना खासा महत्व है और यहां के नीम करौली बाबा को मानने वालों की संख्या अनगिनत है. यह देश ही नहीं विदेशों भी काफी लोकप्रिय हैं. वह अपने एक साधारण जीवन, पर उनके द्वारा किए गए चमत्कारों को आज भी भी याद किया जाता है. 15 जून को कैंची धाम के 60वां स्थापना दिवस मनाया जाता है. इस दिन बेहद उत्साह के साथ भंडारे का आयोजन किया जाता है. आइए जानते हैं नीम करोली बाबा के बारे में विस्तार से.

खालिस्तान, वर्तमान, इतिहास और भविष्य
जून 14, 2024 | 14 Jun 2024 | 5:51 PM

31 अक्टूबर 1984, स्थान नई दिल्ली का प्रधानमंत्री आवास. अचानक गोलियों की तड़तड़ाहट गूंजी और तात्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके अंगरक्षकों ने उनके ही आवासीय परिसर में हत्या कर दी. घटना अप्रत्याशित थी. किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि एक प्रधानमंत्री की उनके ही अंगरक्षक हत्या करेंगे. ये सभी अंगरक्षक इंदिरा जी को बड़े प्रिय थे. इस घटना ने पूरे देश ही नहीं, पूरे विश्व को उद्वेलित कर दिया. आखिर इंदिरा गांधी की हत्या क्यों हुई? वे अंगरक्षक जो इंदिरा गांधी के सबसे वफादार थे अचानक विद्रोही क्यों हो गये?

मानव तस्करों के झांसे में पति की चली गई जान, न्याय की आस में दर-दर भटक रही दलित महिला
मई 19, 2024 | 19 May 2024 | 8:58 AM

पलामू जिले में मजदूरी के लिए मानव तस्करों के झांसे में फंसे एक दलित परिवार का मामला प्रकाश में आया है. हरिहरगंज थाना क्षेत्र के कटैया गांव की उर्मिला देवी के पति बिसुनदेव‌ राम के साथ जो हुआ वह तो वाकई चौंकाने वाली घटना है

गर्मी के दिनों पेट को ठंडा रखता है यह 'झारखंडी साग', मिलते हैं कई विटामिन और मिनरल्स
मई 16, 2024 | 16 May 2024 | 11:44 AM

झारखंड प्रकृति की गोद में बैठा एक ऐसा राज्य है अगर आप इस प्रदेश के जगलों का सैर करेंगे तो आपको यहां एक से एक बढ़कर कई प्रकार के बहुमुल्य औषधीय भंडार मिलेंगे. जिसे आदिवासी समाज के लोग अपने आहार में नियमित रुप से शामिल करते है. इनके आहार में शामिल कई साग जटिल बीमारियों को भी रोकने में अपना क्षमता रखता है.