Wednesday, May 22 2024 | Time 03:29 Hrs(IST)
 logo img
झारखंड » सिमडेगा


महुआ बन रहा ग्रामीणों के आर्थिक संरचना का आधार: बिचौलियों के कारण नहीं मिल रहा ग्रामीणों को उचित मूल्य

महुआ बन रहा ग्रामीणों के आर्थिक संरचना का आधार: बिचौलियों के कारण नहीं मिल रहा ग्रामीणों को उचित मूल्य

आशीष शास्त्री/न्यूज11 भारत


सिमडेगा/डेस्क: झारखण्ड के दक्षिणी छोर पर बसे सिमडेगा की मुख्य आर्थिक संरचना वन उत्पादों पर आधारित है. कल कारखानों से रहित इस जिले मे मुख्य जीविका वनो से निकली उत्पादो पर ही अधारित हैं इन मे से सबसे महत्वपुर्ण उत्पाद महुआ है. जो यहां के ग्रामीणों के लिए आय का सशक्त साधन बनता है.


वनोपज पर निर्भर है सिमडेगा की बडी आबादी


सिमडेगा की बडी आबादी वनोपज पर निर्भर है. महुआ यहां आय का सबसे बडा साधन हैं, लेकिन बिचौलिए यहां ग्रामीणों को वनोपज का सही मुल्य नहीं देते हैं. झारखण्ड मे महुआ के उत्पादन मे सिमडेगा अग्रणी जिलो में एक है. लेकिन यहां महुआ खरीद करने के लिए कोई सरकारी मंडी उपलब्ध नही होने के कारण यहां के ग्रामीणो को महुआ का उचित मुल्य नहीं मिल पाता है. मार्च का महीना महुआ के फुलने का महीना रहता है. जंगल में चारो तरफ महुआ की मदमस्त महक बिखरी रहती है.



आप अगर यहां के जंगली रास्तो में घुमेंगे तो हर तरफ महुआ का फुल बिखरा पड़ा नजर आ जायेगा. सिमडेगा के ग्रामीण प्रतिदिन अहले सुबह उठ कर महुआ के फुलों को चुनने के लिए जंगलों में मौजूद महुआ के पेड़ों के आस-पास जमा रहते है. महुआ का फुल सूर्योदय के साथ ही जैसे गिरता है, ग्रामीण एक एक कर इन फुलों को चुन कर इकट्ठा करते हैं. इसके बाद वे इन फुलों को सुखाते हैं. जब ये फुल कुछ सुख जाते हैं. तब ग्रामीण इन फुलो को बेच का अपने रोजमर्रा का सामान खरीदते हैं.


औने-पौने दाम में बिचैलियों को बेच देते है महुआ 


ग्रामीण काफी मेहनत कर महुआ को चुन कर सुखाते है. लेकिन सिमडेगा में महुआ खरीद करने की कोई सरकारी मंडी नही होने के कारण गांव के लोग औने पौने दाम मे गांव के ही सेठ साहूकारो या बिचैलियों को महुआ बेच देते है. जिससे इनको इनकी मेहनत का उचित लाभ नही मिल पाता है. गांव के व्यापारी या दलाल इनसे महुआ 30 से 35 रूपये किलो खरीद लेते हैं. जबकि ये व्यापारी या बिचैलिये इसी महुए को 55-70 रूपये किलो बेचते हैं. सिमडेगा में ही महुआ खरीद की कोई सरकारी मंडी होती तो व्यापारियों और बिचैलियों को मिलने वाला लाभ सीधे ग्रामीणो को मिलता.


इस क्षेत्र का प्रमुख वनोपाद है महुआ 


महुआ इस क्षेत्र का प्रमुख वनोपाद है और सिमडेगा का महुआ देश में अपना अलग स्थान रखता है. लेकिन अभी तक इसे सही तरीके से खरीदने की व्यवस्था नही की गई है. जिससे ग्रामीण लोगो को समुचित दाम नही मिलता है. जरूरत है एक ठोस योजना की जिससे गांव की यह फसल सही तरीके से सरकारी माध्यम से बेचने की व्यवस्था की जाए जिससे गांव के लोगो को समुचित लाभ मिल सके और इनका आर्थिक सुधार हो सके.

अधिक खबरें
मिशन बदलाव की टीम ने दुर्घटना में मृतक के परिजनों को दिया 11800 रूपये का सहयोग
मई 21, 2024 | 21 May 2024 | 7:43 PM

सिमडेगा के जलडेगा थाना क्षेत्र बनजोगा सड़क टोली में विगत 14 मई को पुलिस की मालवाहक गाड़ी की चपेट में आकर कोवादरहा निवासी कपिलास सिंह एवं उसकी पत्नी बिरसमनी देवी की मौत हो गई थी. वहीं उनकी एक वर्षीय पुत्री गंभीर रूप से घायल हो गई थी.

सिमडेगा के छोटानागपुर कल्याण निकेतन द्वारा रोका गया एक बाल विवाह
मई 21, 2024 | 21 May 2024 | 7:17 PM

जिले के पाकरटांड़ प्रखंड में न्याय के बढ़ते कदम अभियान के तहत बाल विवाह मुक्त भारत बनाने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जा रहा था. जागरूकता अभियान के क्रम में संस्था छोटानागपुर कल्याण निकेतन के प्रतिनिधि को सिकरियाटांड़ पंचायत के सिकरियाटांड़ टांगरटोली ग्राम तथा आसानबेड़ा पंचायत के भुन्डूपानी कुरपानी ग्राम में बाल विवाह से संबंधित जानकारी प्राप्त हुई.

टापूडेगा शिव मंदिर के वार्षिक आयोजन के मद्देनजर हुई ग्रामीणों की बैठक
मई 21, 2024 | 21 May 2024 | 7:06 PM

टापूडेगा शिव मंदिर में वार्षिक कार्यक्रम आयोजन करने के रूपरेखा बनाने के लिए ग्रामीणों की एक बैठक मंगलवार को शिव मंदिर प्रांगण में कुलदीप प्रसाद की अध्यक्षता में हुई. बैठक में मंदिर के पुरोहित पीताम्बर शुक्ला ने सीता नवमी के मौके पर सभी को माता सीता के त्याग तपस्या एवम समर्पण की बारे में विस्तार पूर्वक बताया.

विशेष लोक अदालत में अधिक-से-अधिक मामलों का करें निष्पादन: पीडीजे
मई 21, 2024 | 21 May 2024 | 6:43 PM

जिला विधिक सेवा प्राधिकार के अध्यक्ष सह पीडीजे राजीव कुमार सिन्हा की अध्यक्षता में आगामी 8 जून को होने वाले विशेष लोक अदालत को लेकर बैठक आयोजित की गई.

गोवा से दो व्यक्ति सिमडेगा अपने घर के लिए निकले, लेकिन नहीं पंहुचे घर
मई 21, 2024 | 21 May 2024 | 6:38 PM

सिमडेगा के बानो थाना क्षेत्र के चकलाबासा निवासी दो व्यक्ति काम करने गोवा गए थे. वहां से वे 12 मई को अपने घर लौटने के लिए निकले, लेकिन आज तक घर नही पहुंचे. जिससे उसके घर वाले काफी परेशान हैं.