Thursday, Apr 25 2024 | Time 08:04 Hrs(IST)
 logo img
  • सिमडेगा में पारिवारिक तनाव के कारण फांसी लगाकर एक व्यक्ति ने किया आत्महत्या का प्रयास, हालत गंभीर
  • सिमडेगा में पारिवारिक तनाव के कारण फांसी लगाकर एक व्यक्ति ने किया आत्महत्या का प्रयास, हालत गंभीर
  • Jharkhand Weather Update: रांची का तापमान फिर बढ़ा, हीट वेव का अलर्ट जारी
  • बाराद्वारी में आपसी रंजिश को लेकर जमकर हुई मारपीट, फिर चली गोली
  • बाराद्वारी में आपसी रंजिश को लेकर जमकर हुई मारपीट, फिर चली गोली
  • चैम्बर भवन में आयोजित हुआ मतदाता जागरूकता अभियान, मतदान के प्रति व्यापारियों को किया गया जागरूक
  • चैम्बर भवन में आयोजित हुआ मतदाता जागरूकता अभियान, मतदान के प्रति व्यापारियों को किया गया जागरूक
  • सुदेश महतो से संजय सेठ ने मुलाकात की लोकसभा चुनाव को लेकर रणनीति पर हुई चर्चा
  • 25 अप्रैल को सभी निजी एवं सरकारी स्कूलों में पेरेंट्स टीचर मीटिंग होगी आयोजित, मतदान के प्रति किया जाएगा जागरूक
  • नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के खिलाफ सुरक्षा बलों को मिली बड़ी सफलता
  • नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के खिलाफ सुरक्षा बलों को मिली बड़ी सफलता
NEWS11 स्पेशल


सामूहिक सहयोग से ही फाइलेरिया और कालाजार पर लगेगी रोक

कहा अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने
सामूहिक सहयोग से ही फाइलेरिया और कालाजार पर लगेगी रोक

न्यूज11, भारत

रांची. फाइलेरिया एक ऐसी चुनौती है, जो अर्थव्यवस्था को प्रभावित कर वैश्विक कल्याण में बाधा डालती है. इस चुनौती से निबटने के लिए सभी को मिलकर काम करना होगा. सामूहिक प्रयासों का ही नतीजा है कि राज्य में फाइलेरिया और कालाजार के मरीजों की संख्या में निरंतर कमी दर्ज की जा रही है. इसमें मीडिया की भूमिका सबसे अहम है. स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव अरूण कुमार सिंह ने होटल बीएनआर चाणक्य में मॉस ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एमडीए) कार्यक्रम के तहत मीडिया कार्यशाला में कही. अरूण कुमार सिंह ने बताया कि राज्य में वर्ष 2020-2021 के आकड़ों के अनुसार लिम्फेडेमा (अंगों में सूजन) के लगभग 43,985 और हाइड्रोसील (अंडकोष की थैली में सूजन) के लगभग 44,620 मरीज हैं. जिसमें 38,376 मरीजों का ऑपरेशन किया जा चुका है.




16 सितम्बर से 30 सितम्बर तक झारखण्ड के 8 फाइलेरिया प्रभावित जिले लोहरदगा, पूर्वी सिंहभूम,  पश्चिमी सिंहभूम, गिरिडीह, गढ़वा, खूंटी एवं हजारीबाग में फाइलेरिया से मुक्ति के लिए दो वर्ष से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती महिलाओं और अति गंभीर रूप से बीमार व्यक्तियों को छोड़कर सभी लोगों को उम्र के अनुसार डीईसी और अलबेंडाजोल की निर्धारित खुराक प्रशिक्षित स्वास्थ्यकर्मियों मुफ्त खिलाई जाएगी.

अपर मुख्य सचिव ने कहा कि इस बात का विशेष ध्यान रखा जाएगा कि एम.डी.ए. कार्यक्रम के दौरान सभी गतिविधियां सही रूप से सम्पादित हों. मास ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के दौरान फाइलेरियारोधी दवाओं का वितरण कदापि नहीं होगा और प्राशिक्षित स्वास्थ्यकर्मियों के सामने ही लाभार्थियों को दवा का सेवन सुनिश्चित किया जायेगा. राज्य से लेकर जिला स्तर तक समन्वय बनाकर कार्यक्रम के दौरान आनेवाली किसी भी समस्या के त्वरित समाधान के लिए विभाग तत्पर रहेगा. मीडिया सहयोगियों से आग्रह है कि वे इन रोगों के उन्मूलन में अपने संकल्प को जारी रखने की अपनी प्रतिबद्धता को दोहराने के लिए एक साथ आए और जागरूकता बढ़ाने में मदद करें, ताकि लोग इन दवाओं के महत्व को समझते हुए इन्हें स्वीकार करें. साथ ही उन्होंने कहा कि ग्राम स्तर पर जो समितियां हैं, उन्हें एक्टिव किया जाएगा. समितियां जन जागरूकता के साथ कूड़े- कचरे पर अंकुश लगाएं और साफ -सफाई का ध्यान रखें.




भारत सरकार के प्रतिनिधि छवि पंत जोशी ने कहा कि किसी भी बीमारी को हराने का एकमात्र तरीका सामुदायिक जुड़ाव और जन सहभागिता है. यह तभी संभव है, जब इस बीमारी के बारे में हर स्तर पर सही और पूरी जानकारी पहुंचे. उन्होंने मीडिया प्रतिनिधियों से आग्रह किया कि वह सभी रोगों के उन्मूलन की दिशा में अपने संकल्प को जारी रखने की अपनी प्रतिबद्धता को बरकरार रखें. उन्होंने बताया कि फाइलेरिया उन्मूलन के लिए अगले दो वर्ष काफी महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि 2030 की डेडलाइन भारत सरकार की है और हमारे पास 2026 तक का समय है. 2026 के बाद सर्वे का काम होगा, जो चार वर्षों तक चलेगा. अगर हम 65 प्रतिशत तक सफलता हासिल कर लेते हैं, तो संक्रमण को नियंत्रित करने में सफल हो सकेंगे. कार्यक्रम में मुख्य रूप से स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारी उपस्थित थे.

अधिक खबरें
महुआ के 'फूलों की खुशबू' से गरीबों के जीवन में आ रही 'खुशहाली'
अप्रैल 08, 2024 | 08 Apr 2024 | 1:56 AM

हजारीबाग में मार्च महीने के अंतिम सप्ताह में जंगलों में महुआ के फूल गिरने लगते हैं. इन्हें इकट्ठा करने के लिए लोग मार्च से मई महीने में करीब 15 दिनों तक जंगल जाते हैं. इस दौरान महुआ के फूलों को चुनने के लिए पेड़ के नीचे की जमीन को साफ करने के लिए सूखे पत्तों में आग लगा दी जाती है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा से खास बातचीत, बेबाकी से रखी अपनी बात
अप्रैल 05, 2024 | 05 Apr 2024 | 9:36 AM

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने अपने आवास ऋषभ वाटिका में हजारीबाग संसदीय क्षेत्र की राजनीति के अलावे देश के बड़े मुद्दों पर अपनी राय रखते हुए मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला. कहा कि 1984 में भले ही हजारीबाग संसदीय क्षेत्र की जनता ने मुझे महज 10 हुजार 727 वोट दिया लेकिन मुझे इन वोटों के साथ एक निर्वाचन क्षेत्र मिल गया. मैं जब चाहूं हजारीबाग में भाजपा को दो फाड़ कर सकता हूं. इन 40 वर्षों के अपने इ

महुआ बन रहा ग्रामीणों के आर्थिक संरचना का आधार: बिचौलियों के कारण नहीं मिल रहा ग्रामीणों को उचित मूल्य
मार्च 28, 2024 | 28 Mar 2024 | 11:25 AM

झारखण्ड के दक्षिणी छोर पर बसे सिमडेगा की मुख्य आर्थिक संरचना वन उत्पादों पर आधारित है. कल कारखानों से रहित इस जिले मे मुख्य जीविका वनो से निकली उत्पादो पर ही अधारित हैं इन मे से सबसे महत्वपुर्ण उत्पाद महुआ है.

Summer Vacation: अगर आप भी गर्मी में कर रहे है घूमने का प्लान तो जरूर विजिट करें देश की ये बेस्ट जगहें
मार्च 18, 2024 | 18 Mar 2024 | 1:20 AM

हमारा भारत एक ऐसा देश है जहां हर मौसम में घूमने के लिए जगह बदल जाती है. अब लोगों को लगभग लगभग ठंड से राहत मिल गयी है. वहीं अब गर्मी का मौसम आने वाला ही है. ऐसे में लोग अभी से ही गर्मियों की छुट्टी में घूमने का प्लान बना लेते है. अगर आप भी घूमने का प्लान बना

महिलाओं को सफर में नहीं लेना होगा टेंशन क्योंकि अब साथ है 'मेरी सहेली'
मार्च 15, 2024 | 15 Mar 2024 | 3:21 AM

दिन-ब-दिन महिलाओं के साथ अत्याचार बढ़ते जा रहे हैं. ट्रेन हो या चाहे बस कहीं भी महिलाएं सुरक्षित नहीं है. ऐसे में सरकार द्वारा महिलाओं की सुरक्षा के लिए कई तरह की योजना लाई जाती है. मेरी सहेली योजना भी एक ऐसी योजना है, जिसमें महिलाओं को यात्रा के समय सुविधाएं दी जाती है.