Tuesday, Jun 18 2024 | Time 06:09 Hrs(IST)
 logo img
NEWS11 स्पेशल


ED की रेड के बाद छोटू उर्फ गजनफर इमाम और मुमताज अहमद के नाम सुर्खियों में..

ED की रेड के बाद छोटू उर्फ गजनफर इमाम और मुमताज अहमद के नाम सुर्खियों में..
न्यूज़11 भारत

रांची/डेस्क: झारखंड के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम के OSD संजीव लाल और उनके घरेलू सहायक जहांगीर के घर पर छापेमारी खत्म होने के बाद संजीव लाल को ईडी की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है. संजीव लाल और जहांगीर की गिरफ्तारी के बाद और दो नाम सुर्खियों में है. 

 

यहां बात हो रही है छोटू उर्फ गजनफर इमाम और मुमताज अहमद की. यह दो नाम इसलिए सुर्खियों में है, कि मंत्री आलमगीर आलम के यहां सहायक के पद पर कार्यरत छोटू की मर्जी के बिना आप मंत्री जी से मिल भी नहीं सकते है. मतलब कि वे लगभग एक दशक से छोटू मंत्री के साथ साए की तरह है. 





 

आपको बता दें कि मंत्री जी छोटू पर आंख बंद कर विश्वास करते है. यानी छोटू चाहेगा तभी आपका काम होगा. किसी भी पैरवी के लिए अधिकारियों को छोटू के पास ही फोन जाता है. इससे पहले छोटू पूर्व मंत्री बंधू तिर्की का भी सहयोगी रह चुका है. इसलिए अब संजीव लाल और जहांगीर की गिरफ्तारी के बाद कई तार खुलने वाले है. कई और लोग भी अब ईडी की रडार पर आने वाले है. ईडी की नजर अब आलमगीर आलम के सचिव गजनफर इमाम उर्फ छोटू पर है. बता दें कि रांची पुनदाग में गजनफर इमाम का आलीशान मकान है. गजनफर इमाम कई मंत्रियों के साथ पीएस रह चुका है. 

 

लहीं, आलमगीर आलम के बेटे तनवीर का दोस्त भी दायरे में है. तनवीर का दोस्त डालटनगंज में होटल और श्रीलेदर के शोरुम का मालिक है. रांची के चर्च रोड स्थित संतुष्टि अपार्टमेंट में करोड़ों की तीन फ्लैट का मालिक है. ट्रांसफर-पोस्टिंग और टेंडर में सुमित कुमार और तनवीर के दोस्त की भूमिका है. तनवीर आलम के साढू का मुर्शिदाबाद, पश्चिम बंगाल में अस्पताल है. सूत्र के अनुसार, हॉस्पिटल में काला धन इनवेस्ट- होता है.
अधिक खबरें
पूरी के जगन्नाथपुर मंदिर के तर्ज पर रांची में भी निकाला जाता है रथ यात्रा, जानिए क्या है इसका महत्व
जून 17, 2024 | 17 Jun 2024 | 2:53 AM

पूरी के जगन्नाथपुर मंदिर के तर्ज पर रांची के धुर्वा स्थित जगन्नाथपुर मंदिर में भी रथ यात्रा का आयोजन होगा. इसको लेकर तैयारी की जारी है. बता दें कि रथ यात्रा के दौरान 7 जुलाई को भगवान जगन्नाथ अपनी बहन सुभद्रा और बड़े भाई बलभद्र के साथ मौसीबाड़ी जाएंगे. इस रथ का निर्माण महावीर लोहरा अपने परिवार के साथ करते हैं. महावीर लोहरा के पूर्वज पीढ़ी दर पीढ़ी यह काम करते आ रहे हैं. रथ यात्रा के लिए भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और देवी सुभद्रा के लिए तीन अलग-अलग रथों का निर्माण होता है. यात्रा में सबसे आगे भगवान बलभद्र, बीच में बहन सुभद्रा और सबसे पीछे भगवान जगन्नाथ का रथ निकलता है.

कौन हैं देश विदेश तक में प्रख्यात नीम करोली बाबा, जाने उनका जीवन परिचय
जून 15, 2024 | 15 Jun 2024 | 4:41 AM

चारों ओर पहाड़ों से घिरी वादियों के मनमोहक दृश्य को देखकर सभी लोग रोमांच से भर जाते हैं. इस रोमांच की ऊर्जा का कारण उत्तराखंड के नैनीताल स्थित कैंची धाम मंदिर है. इस मंदिर का अपना खासा महत्व है और यहां के नीम करौली बाबा को मानने वालों की संख्या अनगिनत है. यह देश ही नहीं विदेशों भी काफी लोकप्रिय हैं. वह अपने एक साधारण जीवन, पर उनके द्वारा किए गए चमत्कारों को आज भी भी याद किया जाता है. 15 जून को कैंची धाम के 60वां स्थापना दिवस मनाया जाता है. इस दिन बेहद उत्साह के साथ भंडारे का आयोजन किया जाता है. आइए जानते हैं नीम करोली बाबा के बारे में विस्तार से.

खालिस्तान, वर्तमान, इतिहास और भविष्य
जून 14, 2024 | 14 Jun 2024 | 5:51 PM

31 अक्टूबर 1984, स्थान नई दिल्ली का प्रधानमंत्री आवास. अचानक गोलियों की तड़तड़ाहट गूंजी और तात्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके अंगरक्षकों ने उनके ही आवासीय परिसर में हत्या कर दी. घटना अप्रत्याशित थी. किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि एक प्रधानमंत्री की उनके ही अंगरक्षक हत्या करेंगे. ये सभी अंगरक्षक इंदिरा जी को बड़े प्रिय थे. इस घटना ने पूरे देश ही नहीं, पूरे विश्व को उद्वेलित कर दिया. आखिर इंदिरा गांधी की हत्या क्यों हुई? वे अंगरक्षक जो इंदिरा गांधी के सबसे वफादार थे अचानक विद्रोही क्यों हो गये?

मानव तस्करों के झांसे में पति की चली गई जान, न्याय की आस में दर-दर भटक रही दलित महिला
मई 19, 2024 | 19 May 2024 | 8:58 AM

पलामू जिले में मजदूरी के लिए मानव तस्करों के झांसे में फंसे एक दलित परिवार का मामला प्रकाश में आया है. हरिहरगंज थाना क्षेत्र के कटैया गांव की उर्मिला देवी के पति बिसुनदेव‌ राम के साथ जो हुआ वह तो वाकई चौंकाने वाली घटना है

गर्मी के दिनों पेट को ठंडा रखता है यह 'झारखंडी साग', मिलते हैं कई विटामिन और मिनरल्स
मई 16, 2024 | 16 May 2024 | 11:44 AM

झारखंड प्रकृति की गोद में बैठा एक ऐसा राज्य है अगर आप इस प्रदेश के जगलों का सैर करेंगे तो आपको यहां एक से एक बढ़कर कई प्रकार के बहुमुल्य औषधीय भंडार मिलेंगे. जिसे आदिवासी समाज के लोग अपने आहार में नियमित रुप से शामिल करते है. इनके आहार में शामिल कई साग जटिल बीमारियों को भी रोकने में अपना क्षमता रखता है.