Thursday, Jun 13 2024 | Time 03:15 Hrs(IST)
 logo img
NEWS11 स्पेशल


5 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता हैं टीचर्स डे, जानें वजह

5 सितंबर को ही क्यों मनाया जाता हैं टीचर्स डे, जानें वजह
न्यूज11 भारत

रांची/डेस्कः भारत में हर साल 5 सितंबर को टीचर्स डे मनाया जाता है. इस दिन स्कूलों और कॉलेज में तरह-तरह के कार्यक्रम का आयोजन किया जाता हैं. हमारे जीवन में शिक्षक ही होते हैं जो हमें सफलता के शिखर तक पहुंचाते है. शिक्षक दिवस पर स्टूडेंट अपने टीचर को सम्मान देकर उनका आभार प्रकट करते हैं.

 

क्यों मनाया जाता हैं टीचर्स डे

5 सितंबर 1888 को भारत के पहले उपराष्ट्रपति और पूर्व राष्ट्रपति डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्म हुआ था. भारत रत्न डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन स्वंय एक महान शिक्षक थे. और जब एक बार उनके शिष्यों ने मिलकर उनका जन्मदिन मनाने का सोचा तो डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने कहा कि ‘मेरा जन्मदिन अलग से मनाने की बजाय अगर टीचर्स डे के रूप में मनाया जाएगा तो मुझे ज्यादा गर्व होगा. बता दें, भारत में पहली बार शिक्षक दिवस 1962 में मनाया गया था.

 


 

शिक्षक दिवस का महत्व

डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने अपने जीवन के अहम 40 साल एक टीचर के रुप में देश को समर्पित किया था. उन्होंने हमेशा शिक्षकों के सम्मान पर जोर दिया था. उनका कहना था कि एक सच्चा शिक्षक समाज को हमेशा सही दिशा देने का काम करता है. साथ विपरीत परिस्थितियों में डटकर सामना करना का गुर सिखाते हैं. साथ ही बच्चों के जीवन संवारने में शिक्षक का एक महत्वपूर्ण योगदान होता है ऐसे में अगर शिक्षकों की अगर अनदेखी हो तो यह ठीक नहीं.




ये देश 5 सितंबर को नहीं मनाते टीचर्स डे

भारत में भले ही शिक्षक दिवस 5 सितंबर को बनाया जाता है. लेकिन साल 1994 में यूनेस्को ने शिक्षकों के सम्मान में 5 अक्टूबर को शिक्षक दिवस मनाने का ऐलान किया था. वहीं रूस जैसे कई देशों का शिक्षक दिवस 5 अक्टूबर को मनाया जाता है. ऑस्ट्रेलिया, चाइना, जर्मनी, बांग्लादेश, श्रीलंका, यूके, पाकिस्तान, ईरान में भी शिक्षक दिवस अलग-अलग दिन मनाया जाता है.

 
अधिक खबरें
गर्मी के दिनों पेट को ठंडा रखता है यह 'झारखंडी साग', मिलते हैं कई विटामिन और मिनरल्स
मई 16, 2024 | 16 May 2024 | 11:44 AM

झारखंड प्रकृति की गोद में बैठा एक ऐसा राज्य है अगर आप इस प्रदेश के जगलों का सैर करेंगे तो आपको यहां एक से एक बढ़कर कई प्रकार के बहुमुल्य औषधीय भंडार मिलेंगे. जिसे आदिवासी समाज के लोग अपने आहार में नियमित रुप से शामिल करते है. इनके आहार में शामिल कई साग जटिल बीमारियों को भी रोकने में अपना क्षमता रखता है.

रांची के राजेश करेंगे जापान में एशियाई देशों के बीच भारत का प्रतिनिधित्व
मई 13, 2024 | 13 May 2024 | 9:35 AM

कभी अपनी शिक्षा का खर्च उठाने के लिए रांची की गलियों और चौराहों में करीब 12 वर्षों तक अखबार बेचने वाले राजेश जापान में 10 ऐशियाई देशों के बीच करीब दो महीने तक भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे. झारखंड की राजधानी रांची के रहने वाले राजेश का चयन इएट्स फोरम (IATSS : International Association of Traffic and Safety sciences) फेलोशीप के लिए हुआ है.

ED की रेड के बाद छोटू उर्फ गजनफर इमाम और मुमताज अहमद के नाम सुर्खियों में..
मई 07, 2024 | 07 May 2024 | 2:19 AM

झारखंड के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम के निजी सचिव संजीव लाल और उनके घरेलू सहायक जहांगीर के घर पर छापेमारी खत्म होने के बाद संजीव लाल को ईडी की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है. संजीव लाल और जहांगीर की गिरफ्तारी के बाद और दो नाम सुर्खियों में है.

लोहरदगा सीट पर इस बार होगा त्रिकोणीय मुकाबला, जनता के तराजू में किसका पलड़ा होगा भारी ?
मई 02, 2024 | 02 May 2024 | 8:26 AM

लोहरदगा लोकसभा के इस चुनावी दंगल में एनडीए से बीजेपी ने समीर उरांव और इंडिया गठबंधन की तरफ से कांग्रेस ने सुखदेव भगत को अपना प्रत्याशी के रुप में उतारा है. जबकि इस सीट से जेएमएम पार्टी के बागी नेता और बिशुनपुर विधायक चमरा लिंडा ने निर्दलीय चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है. यानी लोहरदगा लोकसभा सीट में इन तीनों प्रत्याशियों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिलेगी.

सिंहभूम में गीता कोड़ा और जोबा मांझी में टक्कर, जनता के तराजू में किसका पलड़ा होगा भारी ?
अप्रैल 29, 2024 | 29 Apr 2024 | 9:13 AM

लोकसभा चुनाव 2024 के छठे चरण के मतदान के साथ ही झारखंड में चार चरणों में चुनाव शुरू हो जाएगा. पहले चरण में 13 मई को वोटिंग होगी जिसमें सिंहभूम सहित चार लोकसभा सीटों में मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. इस दिन सिंहभूम के चुनावी दंगल में एनडीए और इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी के बीच महाटक्कर होगी. बता दें, एनडीए की तरफ से गीता कोड़ा जबकि इंडिया गठबंधन की तरफ से जेएमएम प्रत्याशी जोबा मांझी चुनावी दंगल में उतरी है. हालांकि इस लोकसभा सीट में चुनाव के दौरान जनता का तराजू किसके पलड़े में भारी होगा यह तो परिणाम के घोषित होने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा.