Sunday, Mar 3 2024 | Time 07:15 Hrs(IST)
 logo img
NEWS11 स्पेशल


साहिबगंज डीएसपी राजेंद्र दुबे पहुंचे ईडी दफ्तर, पूछताछ शुरू

रिम्स के काटेज में रहे पंकज मिश्रा से लगातार फोन करने का है आरोप
साहिबगंज डीएसपी राजेंद्र दुबे पहुंचे ईडी दफ्तर, पूछताछ शुरू

न्यूज11 भारत


रांची: साहेबगंज के पुलिस उपाधिक्षक राजेंद्र दुबे प्रवर्तन निदेशालय (इडी) के क्षेत्रीय कार्यालय में शुक्रवार को उपस्थित हुए. इन पर राजेंद्र आर्युविज्ञान संस्थान के कॉटेज में इलाजरत सजायाफ्ता पंकज मिश्रा से फोन पर बातचीत करने का आरोप लगा है. उन्हें इडी ने समन कर 8 दिसंबर को बुलाया था. लेकिन आठ दिसंबर को राजेंद्र दुबे उपस्थित नहीं हुए. इडी के अधिकारियों ने अब राजेंद्र दुबे से पूछताछ शुरू कर दी है. इडी की तरफ से साहेबगंज जिले में हुए एक हजार करोड़ के अवैध खनन और ट्रांसपोर्टेशन घोटाले का मुख्य आरोपी पंकज मिश्रा को बनाया गया है. इडी के क्षेत्रीय कार्यालय में संयुक्त निदेशक स्तर के अफसर पंकज मिश्रा और डीएसपी के बीच हुए आईडी फोन प्रकरण मामले में पूछताछ शुरू कर दी है.

 


 

इसी मामले में ईडी ने छह दिसंबर को सूरज पंडित और सात दिसंबर को चंदन यादव को पूछताछ के लिए समन किया था. ये दोनों भी ईडी के समक्ष हाजिर नहीं हुए थे. ईडी इस मामले में पुलिस पदाधिकारी व दोनों अन्य आरोपियों के उपस्थित नहीं होने को काफी गंभीर मान रही है. ईडी को संदेह है कि साहिबगंज डीएसपी पंकज मिश्रा के निर्देश पर जिला पुलिस के माध्यम से कथित तौर पर अपने विपक्षियों के खिलाफ बदला लेने की नीयत से काम कर रहे थे. पंकज मिश्रा न्यायिक हिरासत में रिम्स से डीएसपी को लगातार फोन करते रहे. पंकज मिश्रा ने डीएसपी को ऐसे व्यक्तियों की पहचान करने और उनके खिलाफ कार्रवाई करने के निर्देश दिए, जिन लोगों ने अवैध पत्थर खनन घोटाले में ईडी के समक्ष अपना बयान दर्ज कराया था.

 
अधिक खबरें
संसदीय चुनाव में राड़ तय, राजद की तैयारी चार पर
फरवरी 24, 2024 | 24 Feb 2024 | 8:52 PM

राज्य में होने वाले 14 संसदीय चुनाव में राड़ का होना तय माना जा रहा है. आईएनडीआईए के घटक दल में शामिल राजद ने एक बार फिर कहा है कि वह चार संसदीय सीट पर चुनाव लड़ेगा. वे सीटें हैं गोड्डा, कोडरमा, पलामू और चतरा. राजद के नेता रंजन कुमार यादव ने कहा है कि उनकी तैयारी शुरू हो चुकी है. हम चार संसदीय सीटों पर चुनाव लड़ेगे.

यूपी बिहार तक फैल रहा सिमडेगा के कटहल का स्वाद
फरवरी 22, 2024 | 22 Feb 2024 | 7:18 AM

अपने वनोपज के लिए राज्य में विशेष स्थान रखने वाला सिमडेगा अपने कटहल के स्वाद के लिए भी बिहार यूपी तक मशहूर है। एक रिपोर्ट सिमडेगा के कटहल का स्वाद पंहुचता है बिहार तक। सिमडेगा के कटहल की पटना में होती है खास डिमांड। अच्छी तरह पकने और स्वादिष्ट होने कारण है इसकी मांग। वैसे तो कटहल झारखंड के लगभग हर जिलों में पाया जाता है और खास कर झारखंड का दक्षिण छोटानागपुर प्रमंडल में कटहल बहुतायत पाया जाता है। सिमडेगा के कटहल का स्वाद पंहुचता है बिहार तक। सिमडेगा के कटहल की पटना में होती है खास डिमांड। अच्छी तरह पकने और स्वादिष्ट होने कारण है इसकी मांग। वैसे तो कटहल झारखंड के लगभग हर जिलों में पाया जाता है और खास कर झारखंड का दक्षिण छोटानागपुर प्रमंडल में कटहल बहुतायत पाया जाता है। सिमडेगा में लगभग हरेक किसान के पास चार से दस पेड कटहल के होते हैं। एक पेड से चार से सात क्विंटल कटहल उत्पादन होता है।

सवा नौ साल के बाद अफसरों ने देखा उद्योग मंत्री
फरवरी 21, 2024 | 21 Feb 2024 | 7:57 PM

लगभग सवा नौ साल बाद उद्योग विभाग को अपना कोई मंत्री मिला है. इससे पहले राज्य में रघुवर दास की सरकार थी. तब उन्होने उद्योग विभाग का मंत्रालय अपने पास रखा था. उसके बाद सरकार बदली तो नये मुख्यमंत्री के रूप में हेमंत सोरेन ने पदभार संभाला. तब भी संयोग ऐसा बना कि राज्य को कोई नया उद्योग मंत्री नहीं मिल सका और इसे हेमंत सोरेन ने अपने पास रख लिया. लगभग सवा चार साल बाद राज्य में नये मुख्यमंत्री के रूप में चंपई सोरेन ने पदभार संभाला.

झारखंड में जातीय जनगणना को लेकर चंपई सरकार ने बढ़ाए कदम
फरवरी 20, 2024 | 20 Feb 2024 | 8:44 PM

झारखंड में नगर निकाय चुनाव में जातीय जनगणना का मामला एक बार फिर से तूल पकड़ता जा रहा है। सूबे में विपक्षी पार्टी बीजेपी और आजसू ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया है कि सत्ताधारी दल जातीय जनगणना कराने से पीछे हट रही है। यही कारण है कि राज्य में वर्तमान की गठबंधन की सरकार ने चार साल तक जातीय जनगणना को लेकर टाल-मटोल की रणनीति अपनाती रही। बीजेपी और आजसू के नेताओं ने इस बारे में लगातार सरकार पर सवाल उठाती रही कि आखिर जातीय जनगणना कराने में क्या परेशानी आ रही है।

मंत्री बनाना ही होगा उससे कम स्वीकार नहीं : बैद्यनाथ राम
फरवरी 17, 2024 | 17 Feb 2024 | 8:18 PM

चंपई सोरेन सरकार का विस्तार शुक्रवार को हुआ. यह विस्तार जितनी चर्चा नहीं पा सका उससे अधिक इस बात की चर्चा होने लगी कि एक दलित विधायक जो झारखंड मुक्ति मोर्चा का ही है, उसे मंत्री पद की शपथ लेने से रोक दिया गया.इसके बाद से यह झारखंड ही नहीं पूरे देश की मीडिया में चर्चा का विषय बन गया.बैद्यनाथ राम ने अपनी त्वरित प्रतिक्रिया में कहा था कि वह बहुत ही अपमानित महसूस कर रहे हैं.