Tuesday, Jul 16 2024 | Time 05:18 Hrs(IST)
 logo img
NEWS11 स्पेशल


पंचायत चुनाव: 425 प्रत्याशी निर्विरोध हुए निर्वाचित, अब 194 पद पर ही होंगे चुनाव

पंचायत चुनाव: 425 प्रत्याशी निर्विरोध हुए निर्वाचित, अब 194 पद पर ही होंगे चुनाव

सरफराज कुरैशी/न्यूज11 भारत


रांची: राजधानी सहित राज्य भर में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव हो रहे हैं. पहले चरण का चुनाव का नामांकन प्रक्रिया पूरा हो चुका है. प्रत्याशियों के बीच सिंबल का भी वितरण कर दिया गया है. 14 मई को मतदान होना है. पहले चरण में रांची के तमाड़, बुंडू, सोनाहातू और राहे में कुल 57 पंचायत में चुनाव होने हैं. जिसमें कुल 648 वार्ड सदस्य का पद है. मगर इसमें  महज 194 पद के लिए ही मतदान होगा. क्योंकि, 648 में से 425 वार्ड सदस्य निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं. जिसमे 261 महिला और 164 पर अन्य निर्विरोध निर्वाचित हुए. जबकि, 29 वार्ड ऐसे हैं जहां एक भी अभ्यर्थी ने चुनाव लड़ने के लिए आवेदन नहीं किया. जिसके कारण 25 महिला और 4 अन्य सीट खाली रह जाएंगे. यहां के लिए किसी ने भी आवेदन नहीं किया.  ऐसे में अब 194 वार्ड सदस्य पद के लिए ही चुनाव होंगे. जिसमें 102 सीट महिला के लिए रिजर्व है और 92 सीट पर अन्य उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे.


इसे भी पढ़े...मौसम ने ली करवटः अगले 2-3 घंटे में इन जिले में होगी बारिश


8 पंचायत समियी सदस्य भी निर्विरोध चुने गए


रांची के पंचायत समिति सदस्यों के 65 पदों के लिए चुनाव होने हैं. जिसमें से 8 वार्ड सदस्य भी निर्विरोध चुन लिए गए हैं. इसमें 7 महिला और एक अन्य कोटे के जनप्रतिनिधि है. मतलब अब 57 पदों के लिए ही 14 मई को मतदान होगा. पंचायत समिति सदस्य में सबसे अधिक 5 सीट पर तमाड़ में निर्विरोध प्रत्याशी का चयन हुआ है. इसके अलावा बुंडू में दो और सोनाहातु में एक सीट पर निर्विरोध जीत हुई है.


किस प्रखंड में सबसे अधिक वार्ड सदस्य निर्विरोध निर्वाचित हुए


बुंडू - 84 सीट पर निर्विरोध जीतने वालों में 49 महिला और 35 पर अन्य हैं.


राहे - 56 सीट पर निर्विरोध जीतने वालों में 34 महिला और 20 में अन्य हैं. 


सोनाहातू - 92 सीट पर निर्विरोध जीतने वालों में 57 महिला और 35 अन्य हैं.


तमाड़ - 193 सीट पर जीतने वालों में 121 महिला और 72 में अन्य हैं.


 

अधिक खबरें
भारत का वो अनोखा रहस्यमयी मंदिर, जो हर दिन लेता है जलसमाधि
जून 20, 2024 | 20 Jun 2024 | 7:17 AM

हमारे देश में रहस्‍यों से भरे मंदिरों की कमी नहीं है. विश्व का सबसे अनूठा भारत का एक ऐसा मन्दिर जो हर दिन जलसमाधि लेता है और जल से वापस निकल भी जाता है इसकी कहानी महाभारत काल से जुड़ी हुई है. यह भगवान निक्कलंगेश्वर का मंदिर भावनगर, गुजरात के पास, अरब सागर के अंदर 1KM में स्थित है.

भगवान श्रीकृष्ण को प्रिय हैं ये पांच चीजें, घर में रखने से होती है समृद्धि और धन की प्राप्ति
जून 17, 2024 | 17 Jun 2024 | 10:05 PM

भगवान श्री कृष्ण को इस देश में काफी श्रद्धा से पूजा जाता है. उनकी पूजा करने का बेहद खास महत्व है. अपरंपार महिमा वाले श्री कृष्ण भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण करते हैं. उनकी पूजा की विधि भी बिल्कुल सरल है. इसके लिए आपको रोजाना सुबह स्नान कर भगवान श्रीकृष्ण (Lord Krishna) की विधिपूर्वक पूजा करनी चाहिए. इसके बाद आपको कान्हा जी को प्रिय माखन, मिश्री, शहद समेत आदि चीजों का भोग लगाना चाहिए. धार्मिक मान्यता के अनुसार सच्चे मन से श्रीकृष्ण की उपासना करने से प्रभु की कृपा प्राप्त होती है. साथ ही जातक को मृत्यु लोक में सभी प्रकार के सांसारिक सुख प्राप्त होते हैं. भगवान श्रीकृष्ण के लिए कुछ चीजें बहुत प्रिय हैं, जिनको घर में रखने से सुख-समृद्धि और धन में वृद्धि होती है.

पूरी के जगन्नाथपुर मंदिर के तर्ज पर रांची में भी निकाला जाता है रथ यात्रा, जानिए क्या है इसका महत्व
जून 17, 2024 | 17 Jun 2024 | 2:53 AM

पूरी के जगन्नाथपुर मंदिर के तर्ज पर रांची के धुर्वा स्थित जगन्नाथपुर मंदिर में भी रथ यात्रा का आयोजन होगा. इसको लेकर तैयारी की जारी है. बता दें कि रथ यात्रा के दौरान 7 जुलाई को भगवान जगन्नाथ अपनी बहन सुभद्रा और बड़े भाई बलभद्र के साथ मौसीबाड़ी जाएंगे. इस रथ का निर्माण महावीर लोहरा अपने परिवार के साथ करते हैं. महावीर लोहरा के पूर्वज पीढ़ी दर पीढ़ी यह काम करते आ रहे हैं. रथ यात्रा के लिए भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और देवी सुभद्रा के लिए तीन अलग-अलग रथों का निर्माण होता है. यात्रा में सबसे आगे भगवान बलभद्र, बीच में बहन सुभद्रा और सबसे पीछे भगवान जगन्नाथ का रथ निकलता है.

कौन हैं देश विदेश तक में प्रख्यात नीम करोली बाबा, जाने उनका जीवन परिचय
जून 15, 2024 | 15 Jun 2024 | 4:41 AM

चारों ओर पहाड़ों से घिरी वादियों के मनमोहक दृश्य को देखकर सभी लोग रोमांच से भर जाते हैं. इस रोमांच की ऊर्जा का कारण उत्तराखंड के नैनीताल स्थित कैंची धाम मंदिर है. इस मंदिर का अपना खासा महत्व है और यहां के नीम करौली बाबा को मानने वालों की संख्या अनगिनत है. यह देश ही नहीं विदेशों भी काफी लोकप्रिय हैं. वह अपने एक साधारण जीवन, पर उनके द्वारा किए गए चमत्कारों को आज भी भी याद किया जाता है. 15 जून को कैंची धाम के 60वां स्थापना दिवस मनाया जाता है. इस दिन बेहद उत्साह के साथ भंडारे का आयोजन किया जाता है. आइए जानते हैं नीम करोली बाबा के बारे में विस्तार से.

खालिस्तान, वर्तमान, इतिहास और भविष्य
जून 14, 2024 | 14 Jun 2024 | 5:51 PM

31 अक्टूबर 1984, स्थान नई दिल्ली का प्रधानमंत्री आवास. अचानक गोलियों की तड़तड़ाहट गूंजी और तात्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उनके अंगरक्षकों ने उनके ही आवासीय परिसर में हत्या कर दी. घटना अप्रत्याशित थी. किसी ने सोचा भी नहीं होगा कि एक प्रधानमंत्री की उनके ही अंगरक्षक हत्या करेंगे. ये सभी अंगरक्षक इंदिरा जी को बड़े प्रिय थे. इस घटना ने पूरे देश ही नहीं, पूरे विश्व को उद्वेलित कर दिया. आखिर इंदिरा गांधी की हत्या क्यों हुई? वे अंगरक्षक जो इंदिरा गांधी के सबसे वफादार थे अचानक विद्रोही क्यों हो गये?