Thursday, Jun 13 2024 | Time 03:36 Hrs(IST)
 logo img
NEWS11 स्पेशल


International Tea Day 2023: 21 मई को ही क्यों मनाया जाता है. 'अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस', आइए चलते हैं चाय के सफरनामे पर

International Tea Day 2023: 21 मई को ही क्यों मनाया जाता है. 'अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस', आइए चलते हैं चाय के सफरनामे पर
न्यूज11 भारत

रांची: चाय दुनियाभर में सबसे ज्यादा पी जाने वाली ड्रिंक में से एक है. अगर आप भी हर दिन सुबह की शुरूआत चाय की चुस्की से लेते हैं, तो आज इस बात पर गर्व करने की जरूरत हैं. क्योंकि 21 मई को 'विश्व चाय दिवस' मनाया जाता हैं. आज का दिन चाय के शौक़ीन यानी चाय लवर्स का पसंदीदा दिन है. यह दिन चाय लवर्स को समर्पित है. इस मौके पर आज हम आपको अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस क्यों मनाया जाता है. इसके बारे में जानकारी देंगे.




अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस का इतिहास

सबसे पहले चाय का सेवन 5,000 साल पहले चीन में किया गया था. चीनी सम्राट शेन नुंग ने पहली बार इसका स्वाद चखा था. चाय को पहली बार 2737 ईसा पूर्व में चीन में खोजा गया था. इसके बाद अंग्रेजों ने पहली बार 1824 में भारत में चाय की फसल उगाने की शुरुआत की और इसके बाद से यह दार्जिलिंग, नीलगिरी और असम में उगाया जाने लगा. वर्तमान की बात करें तो आज भारत में कथित तौर पर 900,000 टन चाय का उत्पादन होता है. वहीं, कुछ कथाओं में ऐसा भी कहा जाता है कि बौद्ध भिक्षुों द्वारा चाय का इस्तेमाल औषधि के रूप में किया जाता था और यहीं से चाय की शुरुआत हुई. आज चाय किसी परिचय की मोहताज नहीं है. घरों और बजारों में चाय के कई प्रकार मौजूद हैं. जैसे- वाइट टी, ब्लैक टी, ग्रीन टी, ओलांग टी और हर्बल टी आदि. भारत में चाय का सबसे ज्यादा उत्पादन असम राज्य में किया जाता है. 

 


 

चाय दिवस मनाने का उद्देश्य

आपको बता दें कि चाय दिवस मनाने का उद्देश्य है कि करोड़ों लोग चाय के व्यापार से जुड़े हुए हैं, चाय के बागान और चाय की पत्तियाँ चुनने, सुखाने वाले और चाय की पैकिंग करने वाले और चाय बनाकर बेचने वाले, ये सब चाय के बड़े व्यापार से जुड़े हुए हैं. उनके हितों की रक्षा और जागरूकता जरूरी है. इसी के चलते चायपत्ती की खपत और मांग बढ़ाने पर जोर डालने के लिए हर साल आज यानी 21 मई को 'अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस' के रूप में मनाया जाता है. 

 

आखिर क्यों पहले 15 दिसंबर को मनाया जाता था अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस?

2 साल पहले तक 15 दिसबंर को अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस मनाया जाता था. हालांकि अब 21 मई को मनाया जाने लगा है. इसके पीछे का कारण क्या है. आइए समझते हैं. इसके पीछे भारत का अहम योगदान है. पहले 2005 से 15 दिसंबर को हर साल अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस मनाते रहे हैं. क्योंकि तब तक इसे संयुक्त राष्ट्र की ओर से मान्यता नहीं दी गई थी. इसके बाद भारत सरकार ने 2015 में आधिकारिक तौर पर अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा. जिसके बाद से हर साल 21 मई को इसे मनाया जाने लगा. 
अधिक खबरें
गर्मी के दिनों पेट को ठंडा रखता है यह 'झारखंडी साग', मिलते हैं कई विटामिन और मिनरल्स
मई 16, 2024 | 16 May 2024 | 11:44 AM

झारखंड प्रकृति की गोद में बैठा एक ऐसा राज्य है अगर आप इस प्रदेश के जगलों का सैर करेंगे तो आपको यहां एक से एक बढ़कर कई प्रकार के बहुमुल्य औषधीय भंडार मिलेंगे. जिसे आदिवासी समाज के लोग अपने आहार में नियमित रुप से शामिल करते है. इनके आहार में शामिल कई साग जटिल बीमारियों को भी रोकने में अपना क्षमता रखता है.

रांची के राजेश करेंगे जापान में एशियाई देशों के बीच भारत का प्रतिनिधित्व
मई 13, 2024 | 13 May 2024 | 9:35 AM

कभी अपनी शिक्षा का खर्च उठाने के लिए रांची की गलियों और चौराहों में करीब 12 वर्षों तक अखबार बेचने वाले राजेश जापान में 10 ऐशियाई देशों के बीच करीब दो महीने तक भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे. झारखंड की राजधानी रांची के रहने वाले राजेश का चयन इएट्स फोरम (IATSS : International Association of Traffic and Safety sciences) फेलोशीप के लिए हुआ है.

ED की रेड के बाद छोटू उर्फ गजनफर इमाम और मुमताज अहमद के नाम सुर्खियों में..
मई 07, 2024 | 07 May 2024 | 2:19 AM

झारखंड के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम के निजी सचिव संजीव लाल और उनके घरेलू सहायक जहांगीर के घर पर छापेमारी खत्म होने के बाद संजीव लाल को ईडी की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है. संजीव लाल और जहांगीर की गिरफ्तारी के बाद और दो नाम सुर्खियों में है.

लोहरदगा सीट पर इस बार होगा त्रिकोणीय मुकाबला, जनता के तराजू में किसका पलड़ा होगा भारी ?
मई 02, 2024 | 02 May 2024 | 8:26 AM

लोहरदगा लोकसभा के इस चुनावी दंगल में एनडीए से बीजेपी ने समीर उरांव और इंडिया गठबंधन की तरफ से कांग्रेस ने सुखदेव भगत को अपना प्रत्याशी के रुप में उतारा है. जबकि इस सीट से जेएमएम पार्टी के बागी नेता और बिशुनपुर विधायक चमरा लिंडा ने निर्दलीय चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है. यानी लोहरदगा लोकसभा सीट में इन तीनों प्रत्याशियों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिलेगी.

सिंहभूम में गीता कोड़ा और जोबा मांझी में टक्कर, जनता के तराजू में किसका पलड़ा होगा भारी ?
अप्रैल 29, 2024 | 29 Apr 2024 | 9:13 AM

लोकसभा चुनाव 2024 के छठे चरण के मतदान के साथ ही झारखंड में चार चरणों में चुनाव शुरू हो जाएगा. पहले चरण में 13 मई को वोटिंग होगी जिसमें सिंहभूम सहित चार लोकसभा सीटों में मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. इस दिन सिंहभूम के चुनावी दंगल में एनडीए और इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी के बीच महाटक्कर होगी. बता दें, एनडीए की तरफ से गीता कोड़ा जबकि इंडिया गठबंधन की तरफ से जेएमएम प्रत्याशी जोबा मांझी चुनावी दंगल में उतरी है. हालांकि इस लोकसभा सीट में चुनाव के दौरान जनता का तराजू किसके पलड़े में भारी होगा यह तो परिणाम के घोषित होने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा.