Thursday, Apr 25 2024 | Time 07:05 Hrs(IST)
 logo img
  • चैम्बर भवन में आयोजित हुआ मतदाता जागरूकता अभियान, मतदान के प्रति व्यापारियों को किया गया जागरूक
  • चैम्बर भवन में आयोजित हुआ मतदाता जागरूकता अभियान, मतदान के प्रति व्यापारियों को किया गया जागरूक
  • सुदेश महतो से संजय सेठ ने मुलाकात की लोकसभा चुनाव को लेकर रणनीति पर हुई चर्चा
  • 25 अप्रैल को सभी निजी एवं सरकारी स्कूलों में पेरेंट्स टीचर मीटिंग होगी आयोजित, मतदान के प्रति किया जाएगा जागरूक
  • नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के खिलाफ सुरक्षा बलों को मिली बड़ी सफलता
  • नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के खिलाफ सुरक्षा बलों को मिली बड़ी सफलता
NEWS11 स्पेशल


International Tea Day 2023: 21 मई को ही क्यों मनाया जाता है. 'अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस', आइए चलते हैं चाय के सफरनामे पर

International Tea Day 2023: 21 मई को ही क्यों मनाया जाता है. 'अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस', आइए चलते हैं चाय के सफरनामे पर
न्यूज11 भारत

रांची: चाय दुनियाभर में सबसे ज्यादा पी जाने वाली ड्रिंक में से एक है. अगर आप भी हर दिन सुबह की शुरूआत चाय की चुस्की से लेते हैं, तो आज इस बात पर गर्व करने की जरूरत हैं. क्योंकि 21 मई को 'विश्व चाय दिवस' मनाया जाता हैं. आज का दिन चाय के शौक़ीन यानी चाय लवर्स का पसंदीदा दिन है. यह दिन चाय लवर्स को समर्पित है. इस मौके पर आज हम आपको अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस क्यों मनाया जाता है. इसके बारे में जानकारी देंगे.




अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस का इतिहास

सबसे पहले चाय का सेवन 5,000 साल पहले चीन में किया गया था. चीनी सम्राट शेन नुंग ने पहली बार इसका स्वाद चखा था. चाय को पहली बार 2737 ईसा पूर्व में चीन में खोजा गया था. इसके बाद अंग्रेजों ने पहली बार 1824 में भारत में चाय की फसल उगाने की शुरुआत की और इसके बाद से यह दार्जिलिंग, नीलगिरी और असम में उगाया जाने लगा. वर्तमान की बात करें तो आज भारत में कथित तौर पर 900,000 टन चाय का उत्पादन होता है. वहीं, कुछ कथाओं में ऐसा भी कहा जाता है कि बौद्ध भिक्षुों द्वारा चाय का इस्तेमाल औषधि के रूप में किया जाता था और यहीं से चाय की शुरुआत हुई. आज चाय किसी परिचय की मोहताज नहीं है. घरों और बजारों में चाय के कई प्रकार मौजूद हैं. जैसे- वाइट टी, ब्लैक टी, ग्रीन टी, ओलांग टी और हर्बल टी आदि. भारत में चाय का सबसे ज्यादा उत्पादन असम राज्य में किया जाता है. 

 


 

चाय दिवस मनाने का उद्देश्य

आपको बता दें कि चाय दिवस मनाने का उद्देश्य है कि करोड़ों लोग चाय के व्यापार से जुड़े हुए हैं, चाय के बागान और चाय की पत्तियाँ चुनने, सुखाने वाले और चाय की पैकिंग करने वाले और चाय बनाकर बेचने वाले, ये सब चाय के बड़े व्यापार से जुड़े हुए हैं. उनके हितों की रक्षा और जागरूकता जरूरी है. इसी के चलते चायपत्ती की खपत और मांग बढ़ाने पर जोर डालने के लिए हर साल आज यानी 21 मई को 'अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस' के रूप में मनाया जाता है. 

 

आखिर क्यों पहले 15 दिसंबर को मनाया जाता था अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस?

2 साल पहले तक 15 दिसबंर को अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस मनाया जाता था. हालांकि अब 21 मई को मनाया जाने लगा है. इसके पीछे का कारण क्या है. आइए समझते हैं. इसके पीछे भारत का अहम योगदान है. पहले 2005 से 15 दिसंबर को हर साल अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस मनाते रहे हैं. क्योंकि तब तक इसे संयुक्त राष्ट्र की ओर से मान्यता नहीं दी गई थी. इसके बाद भारत सरकार ने 2015 में आधिकारिक तौर पर अंतरराष्ट्रीय चाय दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा. जिसके बाद से हर साल 21 मई को इसे मनाया जाने लगा. 
अधिक खबरें
महुआ के 'फूलों की खुशबू' से गरीबों के जीवन में आ रही 'खुशहाली'
अप्रैल 08, 2024 | 08 Apr 2024 | 1:56 AM

हजारीबाग में मार्च महीने के अंतिम सप्ताह में जंगलों में महुआ के फूल गिरने लगते हैं. इन्हें इकट्ठा करने के लिए लोग मार्च से मई महीने में करीब 15 दिनों तक जंगल जाते हैं. इस दौरान महुआ के फूलों को चुनने के लिए पेड़ के नीचे की जमीन को साफ करने के लिए सूखे पत्तों में आग लगा दी जाती है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा से खास बातचीत, बेबाकी से रखी अपनी बात
अप्रैल 05, 2024 | 05 Apr 2024 | 9:36 AM

पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने अपने आवास ऋषभ वाटिका में हजारीबाग संसदीय क्षेत्र की राजनीति के अलावे देश के बड़े मुद्दों पर अपनी राय रखते हुए मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला. कहा कि 1984 में भले ही हजारीबाग संसदीय क्षेत्र की जनता ने मुझे महज 10 हुजार 727 वोट दिया लेकिन मुझे इन वोटों के साथ एक निर्वाचन क्षेत्र मिल गया. मैं जब चाहूं हजारीबाग में भाजपा को दो फाड़ कर सकता हूं. इन 40 वर्षों के अपने इ

महुआ बन रहा ग्रामीणों के आर्थिक संरचना का आधार: बिचौलियों के कारण नहीं मिल रहा ग्रामीणों को उचित मूल्य
मार्च 28, 2024 | 28 Mar 2024 | 11:25 AM

झारखण्ड के दक्षिणी छोर पर बसे सिमडेगा की मुख्य आर्थिक संरचना वन उत्पादों पर आधारित है. कल कारखानों से रहित इस जिले मे मुख्य जीविका वनो से निकली उत्पादो पर ही अधारित हैं इन मे से सबसे महत्वपुर्ण उत्पाद महुआ है.

Summer Vacation: अगर आप भी गर्मी में कर रहे है घूमने का प्लान तो जरूर विजिट करें देश की ये बेस्ट जगहें
मार्च 18, 2024 | 18 Mar 2024 | 1:20 AM

हमारा भारत एक ऐसा देश है जहां हर मौसम में घूमने के लिए जगह बदल जाती है. अब लोगों को लगभग लगभग ठंड से राहत मिल गयी है. वहीं अब गर्मी का मौसम आने वाला ही है. ऐसे में लोग अभी से ही गर्मियों की छुट्टी में घूमने का प्लान बना लेते है. अगर आप भी घूमने का प्लान बना

महिलाओं को सफर में नहीं लेना होगा टेंशन क्योंकि अब साथ है 'मेरी सहेली'
मार्च 15, 2024 | 15 Mar 2024 | 3:21 AM

दिन-ब-दिन महिलाओं के साथ अत्याचार बढ़ते जा रहे हैं. ट्रेन हो या चाहे बस कहीं भी महिलाएं सुरक्षित नहीं है. ऐसे में सरकार द्वारा महिलाओं की सुरक्षा के लिए कई तरह की योजना लाई जाती है. मेरी सहेली योजना भी एक ऐसी योजना है, जिसमें महिलाओं को यात्रा के समय सुविधाएं दी जाती है.