Thursday, Jun 13 2024 | Time 02:32 Hrs(IST)
 logo img
NEWS11 स्पेशल


झारखंड के इस जिले में दफन है बेशकीमती खजाना और इतिहास की गाथा

झारखंड के इस जिले में दफन है बेशकीमती खजाना और इतिहास की गाथा

न्यूज11 भारत


रांची/डेस्क: झारखंड की धरती के गर्भ में समृद्ध रियासतों के कई गाथा और बेशकीमती खजाने दफन है. जो दिन-भर-दिन संरक्षण और खोज के अभाव में विलुप्त होते जा रही है. इन्ही में से एक सिमडेगा के बीरू रियासत के जमींदोज महल की रोचक गाथा है. शायद ही यह गाथा आपने सुनना होगा. जहां इंसान के जिंदा बाघ बन जाने से लेकर समृद्ध खजाने का इतिहास दफन है.


सरंक्षण और खोज के अभाव में दफन है इतिहास और खजाना


झारखंड के सिमडेगा जिले के बीरूगढ एक जगह है. जो इसके गर्भ में इतिहास के कई राज और बेशकीमती खजाने दफन है. संरक्षण और खोज के अभाव में धरोहर विलुप्त होता जा रहा है. सिमडेगा के बीरूगढ अपने गर्भ में अतीत के कई ऐसी रोचक गाथा और बेशकीमती खजाने को छुपाए हुए है. अगर इसकी खोज शुरू कि जाए तो कालांतर के कई रोचक गाथा सामने आकर अपनी रोचकता से लोगो को आश्चर्य में डाल सकती है. आपको बता दें, बीरूगढ में अभी गंगराजवंश के वंशज रहते हैं. इनके निवास के ठीक पीछे पहाड़ी की तलहटी पर एक पुराने जमींदोज यानी भूगर्भ में स्थित हो चुके है. हालांकि, महल के भग्नावशेष दिखते है. जो कई रहस्य समेटे हुए है. 


बीरुगढ के पूर्व राजा कोनकादेव रात में बन जाते थे बाघ


वर्तमान राजपरिवार के युवराज दुर्गविजय सिंह देव ने बताया कि वे लोग पुरी गजपति महाराज के वंशज हैं. जो वहां से चलकर यहां तक पहुंचे और उन्होंने रातू महाराज को वाकुंडा हीरा देकर बीरुगढ़ की रियासत प्राप्त की थी. इसके पहले बीरूगढ की रियासत कोनगादेव के अधीन थी. सन् 1326 में कोनगादेव से रातू महाराज ने यह रियासत गंग वंश को सौंपा था.


गंगराज वंश के पहले के राजा कोंनगादेव की कहानी बहुत विचित्र है. युवराज ने बताया कि कोंनगादेव बाघराजा थे. वे रात में बाघ बन जाया करते थे. एक बार अपनी रानी का गर्दन अपने पंजे से अलग कर दिया था. तबसे वे अकेले हो गए थे. ये जमींदोज महल यही कोंनगादेव का है. जो जमीन के अंदर से खोजा जाए तो कई राज सामने आ सकते हैं. 



बीरूगढ रियासत का इतिहास कहता है कि ये खंडहर कई सौ साल पहले सात तल्ले का महल हुआ करता था. जिसके अंदर से तीन गुफाएं भी थी. युवराज के अनुसार, यह महल उनके परिवार से पहले के राजा कोंनगादेव का था. जिन्हे बाघराजा भी कहा जाता था. युवराज ने बताया कि 1937 में एक भूकंप में ये महल जमींदोज हो गया. इसके अंदर कई बेशकीमती सामान भी दफन हो गए. आज बस उसके बाहरी हिस्से दिखते हैं. उन्होंने कहा कि वह कई बार प्रशासनिक अधिकारियों से मिलकर इस राज को खोलने की कोशिश की है. लेकिन आज तक किसी ने पहल भी नहीं की.



न्यूज11 भारत इस कोंनगादेव के इस विचित्र गाथा की पुष्टि नहीं करता हैं. लेकिन युवराज दुर्ग विजय सिंह देव के द्वारा बताई गई गाथा अगर सही है तो इस महल की खुदाई से पुरातत्व के कई राज से पर्दा उठ सकता है.


अधिक खबरें
गर्मी के दिनों पेट को ठंडा रखता है यह 'झारखंडी साग', मिलते हैं कई विटामिन और मिनरल्स
मई 16, 2024 | 16 May 2024 | 11:44 AM

झारखंड प्रकृति की गोद में बैठा एक ऐसा राज्य है अगर आप इस प्रदेश के जगलों का सैर करेंगे तो आपको यहां एक से एक बढ़कर कई प्रकार के बहुमुल्य औषधीय भंडार मिलेंगे. जिसे आदिवासी समाज के लोग अपने आहार में नियमित रुप से शामिल करते है. इनके आहार में शामिल कई साग जटिल बीमारियों को भी रोकने में अपना क्षमता रखता है.

रांची के राजेश करेंगे जापान में एशियाई देशों के बीच भारत का प्रतिनिधित्व
मई 13, 2024 | 13 May 2024 | 9:35 AM

कभी अपनी शिक्षा का खर्च उठाने के लिए रांची की गलियों और चौराहों में करीब 12 वर्षों तक अखबार बेचने वाले राजेश जापान में 10 ऐशियाई देशों के बीच करीब दो महीने तक भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे. झारखंड की राजधानी रांची के रहने वाले राजेश का चयन इएट्स फोरम (IATSS : International Association of Traffic and Safety sciences) फेलोशीप के लिए हुआ है.

ED की रेड के बाद छोटू उर्फ गजनफर इमाम और मुमताज अहमद के नाम सुर्खियों में..
मई 07, 2024 | 07 May 2024 | 2:19 AM

झारखंड के ग्रामीण विकास मंत्री आलमगीर आलम के निजी सचिव संजीव लाल और उनके घरेलू सहायक जहांगीर के घर पर छापेमारी खत्म होने के बाद संजीव लाल को ईडी की टीम ने गिरफ्तार कर लिया है. संजीव लाल और जहांगीर की गिरफ्तारी के बाद और दो नाम सुर्खियों में है.

लोहरदगा सीट पर इस बार होगा त्रिकोणीय मुकाबला, जनता के तराजू में किसका पलड़ा होगा भारी ?
मई 02, 2024 | 02 May 2024 | 8:26 AM

लोहरदगा लोकसभा के इस चुनावी दंगल में एनडीए से बीजेपी ने समीर उरांव और इंडिया गठबंधन की तरफ से कांग्रेस ने सुखदेव भगत को अपना प्रत्याशी के रुप में उतारा है. जबकि इस सीट से जेएमएम पार्टी के बागी नेता और बिशुनपुर विधायक चमरा लिंडा ने निर्दलीय चुनाव लड़ने का निर्णय लिया है. यानी लोहरदगा लोकसभा सीट में इन तीनों प्रत्याशियों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिलेगी.

सिंहभूम में गीता कोड़ा और जोबा मांझी में टक्कर, जनता के तराजू में किसका पलड़ा होगा भारी ?
अप्रैल 29, 2024 | 29 Apr 2024 | 9:13 AM

लोकसभा चुनाव 2024 के छठे चरण के मतदान के साथ ही झारखंड में चार चरणों में चुनाव शुरू हो जाएगा. पहले चरण में 13 मई को वोटिंग होगी जिसमें सिंहभूम सहित चार लोकसभा सीटों में मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. इस दिन सिंहभूम के चुनावी दंगल में एनडीए और इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी के बीच महाटक्कर होगी. बता दें, एनडीए की तरफ से गीता कोड़ा जबकि इंडिया गठबंधन की तरफ से जेएमएम प्रत्याशी जोबा मांझी चुनावी दंगल में उतरी है. हालांकि इस लोकसभा सीट में चुनाव के दौरान जनता का तराजू किसके पलड़े में भारी होगा यह तो परिणाम के घोषित होने के बाद ही स्पष्ट हो पाएगा.