Sunday, Mar 3 2024 | Time 08:25 Hrs(IST)
 logo img
  • Jharkhand Weather Update: झारखंड में इतने दिनों तक छाए रहेंगे बादल, जानें आज के मौसम का हाल
NEWS11 स्पेशल


फौजी बनने की चाहत रखने वाला दिनेश गोप आखिर किन हालातों में बना दहशत का पर्याय

फौजी बनने की चाहत रखने वाला दिनेश गोप आखिर किन हालातों में बना दहशत का पर्याय

न्यूज11 भारत


रांची: झारखंड में आतंक का पर्याय बन चुके पीएलएफआई सुप्रीमो दिनेश गोप 30 लाख रूपये का इनामी कुख्यात नक्सली पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (PLFI) सुप्रीमो दिनेश गोप रविवार (21 मई) को दबोच लिया गया हैं. उसे नेपाल में नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) और झारखंड पुलिस के संयुक्त प्रयास से पकड़ा गया.




कहां का रहने वाला है दिनेश गोप

वह मूल रूप से झारखंड के नक्सल प्रभावित जिला खूंटी के जरियागढ़ थाना क्षेत्र में लप्पा मोहराटोली गांव का रहने वाला हैं उसके पिता कामेश्वर गोप उर्फ कैलाश नंदू हैं. दिनेश गांव के लोग बताते हैं कि एक समय दिनेश भारतीय सेना में जाने की तैयारी कर रहा था.

 

जानें, कैसे उग्रवादी संगठन JLT बना PLFI

इसके लिए उसने शारीरिक परीक्षा समेत दूसरी मेरिट लिस्ट को भी पूरा किया था. सेना ने पत्र भी दिनेश गोप को भेजा था, लेकिन वह उसे मिला ही नहीं. उसी के गांव के कुछ दबंगों ने उस लेटर को दिनेश गोप तक पहुंचने नहीं दिया. सेना का लेटर न पहुंचने देने की जानकारी जब दिनेश गोप के भाई सुरेश को हुई तो वह दबंगों का विरोध करने लगा. दबंगों के विरोध करने की वजह से वह उनके निशाने पर आ गया और दबंगों से बचने के लिए वह नक्सलियो के साथ हो गया. वर्ष 2000 में एनकाउंटर में दिनेश का भाई सुरेश गोप एनकाउंटर में मारा गया. उसके बाद सुरेश के मारे जाने के बाद दिनेश गांव छोड़कर भाग गया और फौज में भर्ती होने की इच्छा त्याग दिया. जब वह गांव वापस लौटा, तब सीधा सादा दिनेश गोप नहीं था. वह उग्रवादी संगठन JLT के साथ लौटा. JLT का नाम ही आगे चलकर साल 2007 में PLFI हुआ. दिनेश इसका सुप्रीमो बना.

 





इस तरह दिनेश गोप का दबदबा कायम हुआ

दिनेश गोप के लगातार सक्रिय प्रयासों से PLFI का आतंक खूंटी से शुरू होकर गुमला, सिमडेगा, चाईबासा, लोहरदगा सहित राजधानी तक भी पहुंच गया. आतंक ऐसा कि कोई भी कारोबारी हो या फिर ठेकेदार बिना इस संगठन को पैसे दिए इस इलाके में कोई भी काम नहीं कर सकता था. इस बीच दिनेश ने इस संगठन के लिए अकूत संपत्ति एकत्रित कर ली. इस क्रम में पुलिस के साथ मुठभेड़ में संगठन के कई बड़े और इनामी उग्रवादी मारे गए. लेकिन दिनेश बचता रहा था. पुलिस और NIA की टीम लगातार उसका पीछा कर रही थी, और आखिरकार NIA की टीम उस तक पहुंचने में कामयाब रही. जिसके बाद अब वह उसे लेकर रविवार को रांची पहुंच चुकी है, अब एनआईए की कोशिश उन चेहरों से पर्दा उठाने की है, अब PLFI रीढ़ टूट चुकी है. 

 

वैसे तो दिनेश गोप के पकड़े जाने के बाद पीएलएफआई PLFI का अस्तित्व लगभग समाप्ति की ओर है. लेकिन, यह अनुमान लगाया जा रहा है कि दिनेश गोप के बाद दूसरा बड़ा नाम मार्टिन केरकेट्टा और दुर्गा सिंह संगठन की कमान संभाल सकता हैं. मार्टिन केरकेट्टा गुमला जिले के कामडारा थाना क्षेत्र के रेड़वा गांव का रहने वाला है. जबकि, दुर्गा सिंह रांची जिले के लापुंग थाना क्षेत्र के जरिया, जमाकेल गांव का रहने वाला है. ज्ञात हो कि दिनेश को मजबूती तब मिली थी जब भाकपा माओवादी के मसीह चरण पूर्ति ने दिनेश का दामन थाम लिया था.
अधिक खबरें
संसदीय चुनाव में राड़ तय, राजद की तैयारी चार पर
फरवरी 24, 2024 | 24 Feb 2024 | 8:52 PM

राज्य में होने वाले 14 संसदीय चुनाव में राड़ का होना तय माना जा रहा है. आईएनडीआईए के घटक दल में शामिल राजद ने एक बार फिर कहा है कि वह चार संसदीय सीट पर चुनाव लड़ेगा. वे सीटें हैं गोड्डा, कोडरमा, पलामू और चतरा. राजद के नेता रंजन कुमार यादव ने कहा है कि उनकी तैयारी शुरू हो चुकी है. हम चार संसदीय सीटों पर चुनाव लड़ेगे.

यूपी बिहार तक फैल रहा सिमडेगा के कटहल का स्वाद
फरवरी 22, 2024 | 22 Feb 2024 | 7:18 AM

अपने वनोपज के लिए राज्य में विशेष स्थान रखने वाला सिमडेगा अपने कटहल के स्वाद के लिए भी बिहार यूपी तक मशहूर है। एक रिपोर्ट सिमडेगा के कटहल का स्वाद पंहुचता है बिहार तक। सिमडेगा के कटहल की पटना में होती है खास डिमांड। अच्छी तरह पकने और स्वादिष्ट होने कारण है इसकी मांग। वैसे तो कटहल झारखंड के लगभग हर जिलों में पाया जाता है और खास कर झारखंड का दक्षिण छोटानागपुर प्रमंडल में कटहल बहुतायत पाया जाता है। सिमडेगा के कटहल का स्वाद पंहुचता है बिहार तक। सिमडेगा के कटहल की पटना में होती है खास डिमांड। अच्छी तरह पकने और स्वादिष्ट होने कारण है इसकी मांग। वैसे तो कटहल झारखंड के लगभग हर जिलों में पाया जाता है और खास कर झारखंड का दक्षिण छोटानागपुर प्रमंडल में कटहल बहुतायत पाया जाता है। सिमडेगा में लगभग हरेक किसान के पास चार से दस पेड कटहल के होते हैं। एक पेड से चार से सात क्विंटल कटहल उत्पादन होता है।

सवा नौ साल के बाद अफसरों ने देखा उद्योग मंत्री
फरवरी 21, 2024 | 21 Feb 2024 | 7:57 PM

लगभग सवा नौ साल बाद उद्योग विभाग को अपना कोई मंत्री मिला है. इससे पहले राज्य में रघुवर दास की सरकार थी. तब उन्होने उद्योग विभाग का मंत्रालय अपने पास रखा था. उसके बाद सरकार बदली तो नये मुख्यमंत्री के रूप में हेमंत सोरेन ने पदभार संभाला. तब भी संयोग ऐसा बना कि राज्य को कोई नया उद्योग मंत्री नहीं मिल सका और इसे हेमंत सोरेन ने अपने पास रख लिया. लगभग सवा चार साल बाद राज्य में नये मुख्यमंत्री के रूप में चंपई सोरेन ने पदभार संभाला.

झारखंड में जातीय जनगणना को लेकर चंपई सरकार ने बढ़ाए कदम
फरवरी 20, 2024 | 20 Feb 2024 | 8:44 PM

झारखंड में नगर निकाय चुनाव में जातीय जनगणना का मामला एक बार फिर से तूल पकड़ता जा रहा है। सूबे में विपक्षी पार्टी बीजेपी और आजसू ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया है कि सत्ताधारी दल जातीय जनगणना कराने से पीछे हट रही है। यही कारण है कि राज्य में वर्तमान की गठबंधन की सरकार ने चार साल तक जातीय जनगणना को लेकर टाल-मटोल की रणनीति अपनाती रही। बीजेपी और आजसू के नेताओं ने इस बारे में लगातार सरकार पर सवाल उठाती रही कि आखिर जातीय जनगणना कराने में क्या परेशानी आ रही है।

मंत्री बनाना ही होगा उससे कम स्वीकार नहीं : बैद्यनाथ राम
फरवरी 17, 2024 | 17 Feb 2024 | 8:18 PM

चंपई सोरेन सरकार का विस्तार शुक्रवार को हुआ. यह विस्तार जितनी चर्चा नहीं पा सका उससे अधिक इस बात की चर्चा होने लगी कि एक दलित विधायक जो झारखंड मुक्ति मोर्चा का ही है, उसे मंत्री पद की शपथ लेने से रोक दिया गया.इसके बाद से यह झारखंड ही नहीं पूरे देश की मीडिया में चर्चा का विषय बन गया.बैद्यनाथ राम ने अपनी त्वरित प्रतिक्रिया में कहा था कि वह बहुत ही अपमानित महसूस कर रहे हैं.